आपके लिए उत्तर

क्या आप जानते हैं कि ऐसा कोई है जो आपके विषय में सबकुछ जानता है? परमेश्वर का पुत्र यीशु, सबकुछ जानता है जो आपने किया है। उन्होंने पृथ्वी और जो कुछ इनमें है उसकी सृष्टि की। वह अतित, वर्तमान और भविष्य को जानता है। वह आपसे प्रेम करता है और आपको पाप से बचाने के लिए इस संसार में आया। आपके जीवन में आनन्द लाने के लिए उनका एक योजना है।

एक दिन यीशु अपने मित्रों के साथ यात्रा कर रहे थे। वह सामरिया के एक गांव में आए। यीशु विश्राम करने के लिए एक कूएँ के पास बैठे, जब उनके मित्र भोजन खरीदने के लिए गए।

यब यीशु वहाँ बैठे हुए थे, एक स्त्री कूएँ से जल भरने के लिए आई। यीशु ने उससे पूछा, “क्या तुम मुझे पानी पिला सकती हो?”

स्त्री आश्चर्यचकित हुई। “तू मुझे पानी माँगता है?” उसने कहा। “क्या तुम नहीं जानते कि मैं एक सामरी हूँ और यहूदी हमारे साथ किसी प्रकार का व्यवहार नहीं रखते?”

यीशु ने कोमलतापूर्वक उत्तर दिया, ”वास्तव में यदि तू परमेश्वर और जिससे तू बाते कर रही है उसके विषय में जानती तो तू मुझे जीवन का जल माँगती। मैं प्रसन्नतापूर्वक देता।”

स्त्री आश्चर्यजनक रुप से उसकी ओर देखी। उसने कहा, “हे प्रभु”, कुआँ गहरा है, तेरे पास जल भरने को तो कुछ है भी नहीं। कैसे तू जीवन का जल निकालेगा?

यीशु ने फिर उत्तर दिया, “जो कोई इस कूएँ से पीएगा वह फिर प्यासा होगा। परन्तु यति तू उस जल में से पीएगी जो मैं देता हूँ, तो तू कभी प्यासी न होगी।”

“हे प्रभु”, स्त्री ने कहा, “वह जल मुझे दे ताकि मैं फिर कभी प्यासी न होऊँ और न ही यहाँ जल भरने के लिए वापस आऊँ।”

“जा अपने पति को बता और वापस आ” यीशु ने कहा।

“मैं बिना पति की हूँ” स्त्री ने उत्तर दिया।

“यह सच है,” यीशु ने कहा। “तू पाँच पति कर चुकी है, परन्तु अब जो तेरे साथ है वह तेरा पति नहीं है।”

यह मनुष्य मेरे विषय में कैसे जानता है, वह आश्चर्यचकित हुई। “हे प्रभु,” मुझे लगता है कि तू एक भविष्यवक्ता है। मेरे पास आपके लिए एक प्रश्न है। मेरे जाति के लोगों ने इसी स्थान पर परमेश्वर की आराधना की। तुम कहते हो कि यरूशलेम आराधना करने का स्थान है।

यीशु ने उससे कहा, “यह महत्वपूर्ण नहीं कि हम कहाँ आराधना करते हैं, आज सच्चे विश्वासी आत्मा और सच्चाई से पिता की आराधना कर सकते हैं।”

“मैं जानती हूँ कि मसीह जो ख्रीस्त कहलाता है आने वाला है, उसने कहा, और जब वह आएगा, तो हमें सब बाते बता देगा।”

तब यीशु ने उससे कहा, “मैं ही हूँ।”

वह अपना घड़ा छोड़कर नगर में चली गई। “आओ,” उसने रोते हूए कहा, “आओ और एक मनुष्य कै देखो जिसने सबकुछ जो मैंने किया है मुझे बता दिया। कहीं यही तो मसीह नहीं है?”

तब नगर के लोग निकल कर यीशु से मिलने गए। बहुतों ने विश्वास किया था कि वही मसीह है, उद्धारकर्त्ता क्योंकि वह उनके विषय में सबकुछ जानता था। आप यह विवरण यूहन्ना रचित सुसमाचार ४:३-४२ में पढ़ सकते हैं।

यीशु हमारे विषय में सबकुछ जानता है, चाहे अच्छा हो या बुरा। हम अपने जीवन में किए हुए बुरे चीजों को छिपाना चाहते हैं, परन्तु हम यीशु से छिपा नहीं सकते। वह हमारे बुरे कर्मों के लिए जिस दण्ड के हम योग्य थे उससे बचाने के लिए आया। वह हमारे बोझ को जो हम अपने हृदय में महसूस करते हैं उसे दूर कर सकता है और हमें शान्ति दे सकता है। वह हमारे पापों को दूर करने के लिए मरा, और यह सम्भव बनाया कि मरने के पश्चात हम स्वर्ग में एक घर पा सके।

यीशु आपके सभी जरूरत और प्रत्येक प्रश्न का उत्तर है। वह आपका मित्र बनना चाहता हे। वह आपके हृदय की शून्यता को भरना चाहता हे। वह आपके भय और अशान्ति को शांति और निश्चिंतता में प्रतिस्थापित कर सकता हैं।

यीशु कहते हैं, “मेरे पास आओ... और मैं तुम्हें विश्राम दूँगा” (मत्ती ११:२८)। उनसे प्रार्थना करे और उन्हें आपके जीवन में आने के लिए कहें। जैसे ही आप इस महान परमेश्वर को विश्वास से ग्रहण करेंगे, वह आपके हृदय में बना रहेगा। उनका उपस्थिति आपको आनन्द देगा। वह आपके जीवन में शक्ति और उद्देश्य देगा। वह आपके लिए उत्तर होगा।