आपके लिए एक उद्धारकर्ता

क्या आप खुश हैं? क्या पाप का दोष और भय आपके खुशी पर जयवन्त हुआ है? क्या आप अपने दोष और भय से बाहर आने की इच्छा रखते हैं? आप चिन्ता कर रहे होंगे, कैसे मैं फिर कभी खुश हो सकता हूँ?

मेरे पास आपके लिए एक अच्छा खबर है! कोई है जो आपका सहायता कर सकता है। वह आपके पापों को क्षमा कर सकता है और आपको स्थायी खुशी दे सकता है। उनका नाम यीशु है। मैं आपको उनके विषय में बताता हूँ।

उनका पिता परमेश्वर जिसने संसार को बनाया है। उन्होंने संसार में सबकुछ बनाया है। उन्होंने आपको और मुझे बनाया है। 

परमेश्वर हमें प्रेम करता है। बह संसार में प्रत्येक व्यक्ति को प्रेम करता है। परमेश्वर हमसे इतना प्रेम करता है कि उन्होंने अपना एकलौता पुत्र यीशु को इस संसार में भेजा। जब यीशु इस संसार में था, उसने बीमारी को चंगा किया और दुखी कोचिन्तामुक्त किया। उसने अन्धों का आँख खोला। उसने लोगों को बहुत सारे बातों का शिक्षा दिया। हम उनके विषय में बाइबल में पढ़ते हैं।

यीशु चाहते थे कि आपके और मेरे लिए उनके पिता के पास जो महान प्रेम है हम उसे समझे। उन्होंने यह कहानी बताया जो उनका पिता का प्रेम को व्याख्या करता है। आप इसे बाइबल में पढ़ सकते हैं, लूका १५:११-२४।

एक व्यक्ति अपने दो पुत्रों के साथ एक शहर में खुशी से रहता था। उसने सोचा सबकुछ अच्छा चल रहा है। एक दिन दोनों में से एक पुत्र ने बगावत किया और उसके पास आकर कहा, मुझे यह घर पसन्द नहीं है, मैं अपने अनुसार चलना चाहता हूँ मैं जा रहा हूँ। सम्पति में से जो मेरा भाग है वह मुझे दे दीजिए। पिता को बहुत दु:ख हुआ परन्तु उसने उसे पैसा दिया और जाने दिया। उसने चिन्ता किया कि क्‍या वह अपना बेटा को कभी देख पायेगा।

पुत्र बहुत दुर चला गया और अपना पैसा और मित्रों के साथ खूब मौज-मस्ती किया। वह स्वार्थी जीविका के द्वारा अपना पैसा को लापरवाह से नष्ट किया। जब अचानक उसका पैसा खत्म हो गया और उसके मित्र उसे छोड़ कर चले गए तब तक उसने सोचा कि वह बहुत अच्छा समय बिता रहा है। उसे अकेला और आवश्यक वस्तुओं से हीन होकर रहना पड़ा। अब उसे क्या करना उचित है?

वह एक किसान के पास गया और किसान ने उसे सूअर चराने के लिए भेजा। उसे पर्याप्त भोजन नहीं दिया जाता था। वह इतना ज्यादा भूखा था कि वह सूअर का खाना खाता था। वह अपना किया हुआ सब बुराई और जिस प्रकार वह अपना पिता के साथ अशिष्ट आचरण किया उसके विषय में सोचना शुरु किया।बह अधिक से अधिक दयनीय स्थिति में जाने लगा।

एक दिन उसने याद किया कि उसका पिता कितना प्रेमपूरण था और कितना अच्छा तरिका से सबकुछ देता था जब वह घर में था। वास्तव में उसके पिता का घर में नौकरों को खाने के लिए पर्याप्त था।

उसने सोचा इतना सबकुछ करने के बाद क्या मैं पिता के पास वापस जा सकता हूँ? क्‍या वह फिर भी मुझे प्रेम करेगा ? मैं उनका पुत्र होने के योग्य नहीं हूँ। मुझे सिर्फ एक नौकर होने का इच्छा है यदि वह मुझे स्वीकार करे।

वह तुरन्त उठ खड़ा हुआ और उसके पिता का घर की ओर जाना शुरु किया। वह देखेगा कि यदि उसका पिता फिर भी उसे प्रेम करता है।

पिता अपने पुत्र का राह देख रहा था जब से वह घर छोड़कर गया था। वह प्राय सोचता था क्‍या मेरा पुत्र कभी वापस आएगा? तब एक दिन वह दुर से किसी को आते हुए देखा। क्या वह उसका पुत्र है? जब उसने देखा कि वह उसका बेटा था, वह अपना फैलाया हुआ हाथों के साथ उसके ओर दौड़ पड़ा।

“पिता”, पुत्र ने कहा, “मैंने आपके विरुद्ध पाप किया है। मैं आपका पुत्र कहलाने का योग्य नहीं हूँ।”

परन्तु उसका पिता ने कहा, उसके लिए सबसे अच्छा कपड़ा लाओ और एक भोजन समारोह का तैयारी करो। मेरा बेटा खो गया था पर अब मिल गया है।

हम सब इस बेटे की तरह हैं; हम सब हमारे पिता, परमेश्वर से भटक गए हैं। हमने उनका दिया हुआ बहुत से अवसरों को और उत्तम बस्तुओं का दुरुपयोग किया है। हमने स्वार्थीपन के साथ जीवन व्यतीत किया है और उनके विरुद्ध बगावत किया है। आज हमारा स्वर्गीय पिता यीशु के पास आने के लिए आमंत्रित करता है। अपना फैलाया हुआ हाथों के साथ वह हमारा इन्तजार कर रहा है।

क्या हम हमारे प्रति यीशु का प्रेम को समझते हैं? उन्होंने पीड़ा और अस्वीकरण को सहन किया और दुष्ट लोगों को उन्हें क्रूस पर चढ़ाने के लिए अनुमति दिया। वह हमारे और पुरे संसार के पापों के लिए अपना जीवन को एक बलिदान के रुप में देने के द्वारा हमें अपना प्रेम प्रदर्शित किया। परमेश्वर का सामर्थ के द्वारा वह मृत्यु से जी उठा और हमेशा जीवित है।

क्या आप यीशु के पास आयेंगे और अपने पापों के लिए उससे क्षमा मागेंगे ? जब वह आपको देखता है कि आपका किया हुआ गलती के लिए आपको खेद है, वह आपको क्षमा करेगा और अपना बहाया हुआ लह्‌ के द्वारा आपका सब पापों को धो देगा। यह एक अद्रभूद अनुभव होगा! आप एक नया व्यक्ति बन जायेंगें। जीवन का एक नया अर्थ होगा। यीशु आपका दोष और भय को आनन्द और खुशी में बदल देगा। वह आपका उद्दारकर्त्ता होगा।