आपके लिए एक घर

Your Heavenly Home

आदि में परमेश्वर ने पृथ्वी की सृष्टि की। उन्होंने सूर्य, चाँद और तारों, साथ ही साथ पौधों और पशुओं की सृष्टि की। छांठवे दिन, उन्होंने आपने स्वरूप में मनुष्य को बनाया और जीवन की स्वांस उसमें फूकं दिया। यह पहला व्यक्ति आदम था, और उसकी पत्नि का नाम हवा था। परमेश्वर ने सुन्दर वाटिका में उनके लिए एक घर बनाया। परमेश्वर आदम र हवा से प्रेम करता था और वे भी परमेश्वर से प्रेम करते थे। परमेश्वर ने आदम को वाटिका की देखभाल करने की आज्ञा दी थी। परमेश्वर ने उनसे कहा कि वे भले या बुरे के ज्ञान के वृक्ष का फल के अलावा उनके इच्छा के अनुसार कुछ भी खा सकते हैं और यदि उन्होंने आज्ञा न मानी तो उनकी मृत्यु होगी।

एक दिन एक डरावनी बात हुई। जब आदम और हवा ने परमेश्वर की आज्ञा न मानी और वर्जित किए हुए वृक्ष का फल खाया तब उन्होंने पाप किया। वे डर गए और परमेश्वर से छिप गए।

परमेश्वर जानता था कि वे कहाँ छुपे हैं। वह आया और आदम को पुकारा। परमेश्वर ने उससे कहा कि उनकी अनआज्ञाकारिता के कारण उन्हें वह घर अर्थात सुन्दर वाटिका छोड़ के जाना होगा। 

परमेश्वर ने आदम आर हवा को नहीं भुला। वह तब भी उनसे प्रेम करता था। उन्होंने अपने एकलौते पुत्र यीशु को इस संसार में भेजने का वादा किया। यीशु उनके पाप के लिए मरेंगे ताकि वे जीवित रहे! “क्योंकि परमेश्वर ने जगत से एेसा प्रेम रखा कि उसने अपना एकलौता पुत्र दे दिया, ताकि जो कोइ उस पर विश्वास करे वह नष्ट न हो, परन्तु अनन्त जीवन पाए” (युहन्ना ३:१६)।

यीशु आया! उन्होंने शिक्षा दिया कि सभी ने पाप किया है। पापियों का मृत्यु अनिवार्य है। यीशु ने हमसे इतना प्रेम किया कि उन्होंने परमेश्वर से कहा कि सभी के पाप के लिए वो मरेंगें। जिन्होंने पाप किया है वह उन प्रत्येक के लिए मरा।

शुभ संदेश- यीशु जीवित है। वह कब्र से जी उठा उन्होंने कहा, “मार्ग और सत्य और जीवन मैं ही हूँ; बिना मेरे द्वारा कोई पिता के पास नहीं पहुंच सकता” (यूहन्ना १४:६)। यीशु हमें अपने स्वर्गीय पिता का घर ले जाना चाहता है।

कभी-कभी हम प्रेमहीन अनुभव करते हैं। हमारे आस-पास के लोग दुखी, दर्द या क्रोध में हैं। शायद हम डरे हुए हैं या हृदय में एक चाहत महसूस करते हैं जो कभी छोड़ के नहीं जाता। सोचते हैं कौन हमारी मदद कर सकता हैं और हम क्यों इतना अकेला महसूस करते हैं। परमेश्वर ने उस चाहत को हमारे हृदय की गहराई में डाला है क्योंकि वह हमसे प्रेम करता है। यह एक महत्वपूर्ण चीज है जो हमें हमारे स्वर्गीय पिता की और खीचंता हैं। परमेश्वर हमारे हृदय के उस चाहत को उसके प्रेम में बदलना चाहता है।

वह चाहता है कि आप आपने हृदय से प्रार्थना करें और कहें, “यीशु मुझे आपकी जरूरत है। मैं अपने पापों से थक चुका हूँ। कृप्या यीशु, मुझे धो के साफ करें और मैं इन घिनौना चिजों से लौट कर आऊँगा।” यीशु आपका सच्चा निवेदन को सुनता है। वह आपको धो के साफ करता और उस घर के लिए तैयार करता है जो वह तैयार कर रहा है।

यीश मसीह का इस पृथ्वी को छोड़ने से पहले उन्होंने कहा, “तुम्हारा मन व्याकुल न हो; परमेश्वर पर विश्वास रखो और मुझ पर भी विश्वास रखो। मेरे पिता के घर में बहुत से रहने के स्थान हैं, यदि न होते तो मैं तुम से कह देता; क्योंकि मैं तुम्हारे लिए जगह तैयार करने जाता हूँ” (यूहन्ना १४:१-२)। वह स्वर्गीय घर एक शांतिपूर्ण जगह है जहाँ अनन्त आनन्द और प्रेम है।

परमेश्वर ने उस घर को बहुत सुन्दर बनाया है कि वह कभी भी किसी तरह की बुराई और पाप को अन्दर आने नहीं देगा।

यदि हमारा हृदय पाप से कलंकित है तो जब हम मरेंगें, यीशु हमें अन्दर आने नहीं देगा। यीशु मसीह के साथ रहना कैसा होगा? वहाँ किसी तरह का दर्द, डर या भूख नहीं रहेगी। किसी भी तरह की बीमारी, मृत्यु या दुःख भरी विदाई नहीं होगा। वहाँ सारे संसार भर का उद्धार पाए हुओं के साथ परमेश्वर की स्तुती और प्रशंसा होगी।

अंत में घर। हमारे उद्दारकर्ता यीशु के साथ स्वर्ग में घर।

Your Heavenly Home